Request Callback


 

"Donate Online For ‎‎Support Meditation House To Save Humanity." Donate Today. Get Tax Benefits"

"A Mantra Meditation is Spiritual Power house, Meditation in traquel serenity , Pure Pious environment, four tier meditation system, enlightenment of Individual and society, service to mankind and global family."

POWER OF TANTRIK SADHANA

तंत्र क्या है, तंत्र विज्ञान के फायदे, What is Tantra in hindi - तंत्र को ज्यादातर लोग या तो अंधविश्वास मानकर नकार देते हैं, या फिर कोई डरावनी चीज़ मानकर उससे दूर रहने की सलाह देते हैं। लेकिन यह एक विज|्ञान है, जीवन की प्रत्येक क्रिया तन्त्रोक्त क्रिया है॰यह प्रकृति,यह तारा मण्डल,मनुष्य का संबंध,चरित्र,विचार,भावनाये सब कुछ तो तंत्र से ही चल रहा है;जिसे हम जीवन तंत्र कहेते है॰जीवन मे कोई घटना आपको सूचना देकर नहीं आता है,क्योके सामान्य व्यक्ति मे इतना अधिक सामर्थ्य नहीं होता है के वह काल के गति को पहेचान सके,भविष्य का उसको ज्ञान हो,समय चक्र उसके अधीन हो ये बाते संभव ही नहीं,इसलिये हमे तंत्र की शक्ति को समजना आवश्यक है यही इस ब्लॉग का उद्देश्य है.

MTYV Sadhna Kendra

शिष्य किस प्रकार से पूर्णता प्राप्त करें,

Tuesday 24th of May 2016 06:20:06 AM


शिष्य किस प्रकार से पूर्णता प्राप्त करें, किस प्रकार से अपने जीवन को श्रेष्ठता दे, और अपने में शिष्यत्व के गुण समाहित कर गुरु के योग्य बनें, सदगुरुदेव के कालजयी अमृत वचन शिष्य का अर्थहैं, नजदीक जाना “शिष्य” का अर्थ हैं, समीपता, निकटता, नजदीकता – जो साधक जितना ही ज्यादा ग...

Systematic Development of Sadhana Siddhi साधना चक्र

Saturday 21st of May 2016 11:21:34 AM


साधना चक्र आध्यात्मिक उन्नति का सोपान बुद्धि से ज्ञान की यात्रा अज्ञात रहस्यों की खोज साधना सिद्धि का क्रमबद्ध विकास परम तत्व की अनुभूति ========================================= सामान्यतः प्रत्येक व्यक्ति के मन में यह प्रश्‍न अवश्य उठता है कि – ईश्‍वर क्या ...

dasmahavidya kavach

Tuesday 17th of May 2016 02:18:55 PM


विनियोग ॐ अस्य श्रीमहा-विद्या -कवचस्य श्रीसदा-शिव ॠषि:, उष्णिक छन्द:, श्रीमहा-विद्या देवता, सर्व-सिद्धी-प्राप्त्यर्थे पाठे विनियोग: । ॠष्यादी न्यास श्रीसदा-शिव-ॠषये नम: शिरसी, उष्णिक-छन्दसे नम: मुखे, श्रीमहा-विद्या -देवतायै नम: ह्रीदी, सर्व-सिद्धी-प्राप्त्यार...

shri chinnmasta kavach

Tuesday 17th of May 2016 02:14:44 PM


श्रीं ह्रीं क्लीं ऐं वज्रवैरोचनीये हुं हुं फट् स्वाहा  श्रीछिन्नमस्ताहृदयम् ============== श्रीपार्वत्युवाच- ============== श्रीपार्वत्युवाच- श्रुतं पूजादिकं सम्यग्भवद्वक्त्राब्जनिःसृतम् । हृदयं छिन्नमस्तायाः श्रोतुमिच्छामि साम्प्रतम् ॥१॥ ॐ मह...

bangalamukh sadhana बगलामुखी जयंती

Saturday 14th of May 2016 07:04:15 AM


ॐ नमः शिवाय .... मित्रों !! mantra tantra yantra vigyan माँ बगलामुखी जयंती की आप सभी को शुभकामनायें ! आज का दिन आप सभी के लिए शुभ हो ... धार्मिक मान्यताओ के अनुसार वैशाख मास मे शुक्ल पक्ष की अष्टमी को माँ बगलामुखी का अवतरण दिवस कहा जाता है, इसी कारण इस तिथि को बगलामुखी जयंती मनाई जाती है...

कैसे कह दूँ कि मेरी..... हर दुआ बेअसर हो गई !

Monday 29th of February 2016 05:43:09 PM


कैसे कह दूँ कि मेरी..... हर दुआ बेअसर हो गई ! मै जब भी रोया.... सतगुरु को खबर हो गई सो जाता है हर कोई अपने कल के लिए । जागता है मेरा सतगुरू सबके भले के लिए। "मेरा सहारा भी तू है... मेरी भक्ति भी तू है... मेरा विशवास भी तू है... मेरी शक्ति भी तू है... अब और क्या कहु . सतगुरु . मेरा सब तू ...

meaning of Disciples Life

Sunday 28th of June 2015 02:36:43 PM


true life true life means the ability to give up all one has. one should be filled with a craziness, a zeal ...... and one who has no such enthusiasm is nothing but ice. such a life cannot be like a swift flowing river. a limited, restricted existence is meaningless. disciple's life life means separation...... and only after he has been separated from his loving master can a disciple gain the eagerness to rush and fuse himself totally in the guru. one needs a fervor, an enthusiasm, an eagerness in one's heart to get up and rush to the guru. guru one who can give everything, one who can bestow totality, one who can transform a gain of sand that is the disciple into a universe, on...

क्या आप ऐसे शिष्य हैं? kay aap ese shisya hai

Sunday 28th of June 2015 02:31:54 PM


क्या आप ऐसे शिष्य हैं? शिष्य द्वारा अपने हृदय में गुरु को धारण करना ही पर्याप्त नहीं हैं, अपितु यह तो प्रारंभ मात्र हैं – “यह उतना महत्वपूर्ण नहीं हैं, कि गुरु को कितने शिष्य याद करते हैं? यह भी उतना महत्वपूर्ण नहीं हैं,  कि “गुरु” शब्द को कितने शिष्यों ने अपने हृदय ...

परमपूज्य सदगुरुदेव निखिलेश्वरानंद जी About Swami Nikhileshwaranand ji

Sunday 28th of June 2015 02:24:18 PM


परमपूज्य सदगुरुदेव निखिलेश्वरानंद जी परमपूज्य सदगुरुदेव निखिलेश्वरानंद जी एक ऐसे उदात्ततम व्यक्तित्व हें, जिनके चिन्तन मात्र से ही दिव्यता का बोध होने लगता हैं। प्रलयकाल में समस्त जगत को अपने भीतर समाहित किए हुए महात्मा हिरण्यगर्भ की तरह शांत और सौम्य हैं। व्...

मंत्र सिद्घ होते ही प्रकट होने लगते हैं यह लक्षण

Sunday 28th of June 2015 01:21:26 PM


मंत्र सिद्घ होते ही प्रकट होने लगते हैं यह लक्षण जब मंत्र, साधक के भ्रूमध्य या आज्ञा-चक्र में अग्नि- अक्षरों में लिखा दिखाई दे, तो मंत्र-सिद्ध हुआ समझाना चाहिए। मंत्र का सीधा सम्बन्ध ध्वनि से है। ध्वनि प्रकाश, ताप, अणु-शक्ति, विधुत -शक्ति की भांति एक प्रत्यक्ष शक्ति है...

Guru Sadhana News Update

Blogs Update