Request Callback


 

"Donate Online For ‎‎Support Meditation House To Save Humanity." Donate Today. Get Tax Benefits"

"A Mantra Meditation is Spiritual Power house, Meditation in traquel serenity , Pure Pious environment, four tier meditation system, enlightenment of Individual and society, service to mankind and global family."

POWER OF TANTRIK SADHANA

तंत्र क्या है, तंत्र विज्ञान के फायदे, What is Tantra in hindi - तंत्र को ज्यादातर लोग या तो अंधविश्वास मानकर नकार देते हैं, या फिर कोई डरावनी चीज़ मानकर उससे दूर रहने की सलाह देते हैं। लेकिन यह एक विज|्ञान है, जीवन की प्रत्येक क्रिया तन्त्रोक्त क्रिया है॰यह प्रकृति,यह तारा मण्डल,मनुष्य का संबंध,चरित्र,विचार,भावनाये सब कुछ तो तंत्र से ही चल रहा है;जिसे हम जीवन तंत्र कहेते है॰जीवन मे कोई घटना आपको सूचना देकर नहीं आता है,क्योके सामान्य व्यक्ति मे इतना अधिक सामर्थ्य नहीं होता है के वह काल के गति को पहेचान सके,भविष्य का उसको ज्ञान हो,समय चक्र उसके अधीन हो ये बाते संभव ही नहीं,इसलिये हमे तंत्र की शक्ति को समजना आवश्यक है यही इस ब्लॉग का उद्देश्य है.

MTYV Sadhna Kendra

tara mahavidha sadhana proyog तारा महाविद्या की साधना जीवन का सौभाग्य है ।

Wednesday 17th of January 2018 02:01:57 PM


तारा महाविद्या की साधना जीवन का सौभाग्य है । यह महाविद्या साधक की उंगली पकडकर उसके लक्ष्य तक पहुंचा देती है। गुरु कृपा से यह साधना मिलती है तथा जीवन को निखार देती है । यह प्रयोग साधक किसी भी शुभ दिन शुरू कर सकता है. साधक को यह प्रयोग रात्री काल में ही संपन्न करना चाहिए...

अंधकार से प्रकाश की ओर adhnkar se prkash ki aur

Wednesday 11th of October 2017 04:57:16 AM


अंधकार से प्रकाश की ओर अंधकार व्यापक है, रोशनी की अपेक्षा| क्योंकि अंधेरा अधिक काल तक रहता है, अधिक समय तक रहता है और रोशनी अधिक देर तक नहीं रहती| दिन के पीछे भी अंधेरा है रात का| दिन के आगे भी अंधेरा है रात का| माँ के गर्भ में भी अंधेरा है, जहाँ से हमारे शरीर की शुरुआत हुई औ...

वैराग्य meaning in english, वैराग्य meaning in hindi, वैराग्य के प्रकार वैराग्य in english,वैराग्य क्या है, What is the Meaning of Vairagya and type

Monday 11th of September 2017 11:40:37 AM


वैराग्य वैराग्य अर्थात्‌ न ‘वैर’ हो न ‘राग’ हो। विषयों के साथ रहते हुए भी मन का उनसे लिप्त ना होना ही वैराग्य है. वैराग्य निम्नलिखित कारणों से होता है – * भय के कारण उत्पन्न वैराग्य – नरक के भय से संसार के विषयों से दूर हो जाने वाला वैराग्य * विचार के का...

shisya dharam ka palan

Saturday 2nd of September 2017 09:27:29 AM


प्रेम होता है इसके आगे स्वर्ग की सम्पदा भी फीकी है प्रत्येक  शिष्य को हर हाल में गुरु को प्रसन्न रखना चाहिए क्योकि  हरी रूठे तो ठौर है गुरु रूठे नहीं ठौर अगर हरी रूठ जाते है तो गुरु हरी को मना सकता है मगर गुरु नाराज हो जाने पर हरि  भी गुरु को नहीं मना सकते इसलिए श...

Prem kay hai, प्रेम क्या है ?, प्रेम ताे जीवन है, सम्पूर्ण हृदय है, पूर्णतः समाधि है, प्रेम ताे पृथ्वी है

Wednesday 30th of August 2017 12:13:59 PM


प्रेम क्या है ? प्रेम ताे जीवन है, सम्पूर्ण हृदय है, पूर्णतः समाधि है, प्रेम ताे पृथ्वी है, झिलमिलाता हुवा सत्य का सूत्र है, मानसराेवर कि अथाह गहराइ है, हिमालयका सर्वाेच्च शिखर "गाैरि शंकर "है । पर नहीं , ईन सब उपमाअाैं से प्रेम काे परिभाषित नहीं किया जा सकता है,...

GURUDEV CURES POLIO OF A GIRL:Leela 2 Swami Nikhileshwaranand

Friday 11th of August 2017 06:55:41 AM


gurudev cures polio of a girl : swami nikhileshwaranand ( dr. narayan dutt shrimali) in those days, shrimaliji was staying at mukund babu ji s residence in patna near frazer road. mukund babu was a house holder disciple of shrimaliji and used to recite nikhileshwaranand stevan very strictly. he was a doctor by profession and was practising successfully in patna. his daughter was suffering from polio. that 11-12-year-old girl was extremely beautiful and innocent. she used to speak to everyone with great affection. she always had great desire to serve gurudev. she wanted to make juice for shrimaliji, but she was unable to due to her condition. the next day around 5 pm in the even...

NIKHILESHWARANAND LEELA part 1

Friday 11th of August 2017 06:46:50 AM


nikhileshwaranand leela - a brief insight into life of a brahmarshi swami satchidananda (in siddhashram ) had only 3 disciples in past thousands of years. such a rigorous examination he used to take to make someone his disciple and nikhileshwaranand was his favourite disciple. nikhileshwaranand gave darshan of lord ganesha and vyasa mahamuni writing vedas ( in the cave of vyasa maha muni ) to his disciples nikhileshwaranand gives darshan of lord bhairav ( manifestation of lord shiva ) to a kapalik ( whose isht devta was bhairav), who was arrogant of his small siddhis nikhileshwaranand showed the war of mahabharat, including the scen...

गूरूमंत्र की महिमा

Thursday 3rd of August 2017 06:46:23 AM


गुरु की दृष्टि तो साधक की ओर अखण्ड रुप से है , किन्तु साधक ही गुरु की ओर दृष्टि नहीँ करता है । गुरु तो जीव को अपनाने हेतु तत्पर हैँ किन्तु ...अभागा साधक उनसे मिलने को आतुर कहाँ है ? गूरूमंत्र की महिमा गुरुमंत्रो मुखे यस्य तस्य सिद्धयन्ति नान्यथा | ...

Aasan Siddhi mantra tantra sadhana

Wednesday 26th of July 2017 10:45:54 AM


आसन सिद्धि           सर्वप्रथम सद्गुरु पूजन कर उनके सम्मुख नतमस्तक होकर सफलता का आशीष ले. फिर निम्न मन्त्र का ११ बार जप करे. ॐ आः सुरेखे वज्रे रेखे हूं फट स्वाहा ॐ पृथ्वी त्वया धृता लोका देवित्वं विष्णुना धृता. त्वंच धारय माँ देवी पवित्रं कुरु चासनम् ओम प...

गुरुमंत्र अनुष्ठान gurumantra anusthan sadhana, गुरुमंत्र अनुष्ठान अनुष्ठान क्या है अनुष्ठान का अर्थ गुरु मंत्र इन हिंदी गुरु मंत्र क्या है गुरू मंत्

Wednesday 26th of July 2017 10:40:01 AM


मंत्र सिद्धि रहस्य मंत्र अपना प्रभाव तभी दिखातें हैं जब उन्हें सिद्धि कर लिया जाये। मंत्र सिद्धि के अलग अलग प्रयोग हमारे शास्त्रों में दिया गए हैं लेकिन गुप्त प्रयोगों को समझना एक साधारण व्यक्ति के लिए बहतु कठिन हैं। जो व्यक्ति साधना करना चाहता है उसके लिए उसक...

Guru Sadhana News Update

Blogs Update